Thursday, 4 April 2013

आज तुम नहीं हो .......


आज तुम नहीं हो तो

क्या सूरज नहीं निकला 
,
पर उसमे वो चमक ही कहाँ ..........

आज तुम नहीं हो तो

क्या फूल नहीं खिला 
,
पर उसमे वो महक ही कहाँ ........

जब तुम नहीं हो तो सब हो


कर भी कुछ नहीं होता

 ......
ना सूरज में चमक ना हवाओं


में महक और आज तुम नहीं


हो तो मेरी आँखों में भी वो


नूर कहाँ .................

27 comments:

  1. सुन्दर प्रस्तुति!
    आपकी पोस्ट का लिंक आज शुक्रवार (05-04-2013) के चर्चा मंच पर भी है!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद रूपचन्द्र शास्त्री जी

      Delete
  2. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 06/04/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद जी यशोदा जी

      Delete
  3. भावनाओं की गहन अनुभूति से उपजी व्यथा

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद अज़ीज़ जौनपुरी

      Delete
  4. Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद मंजुल सखी

      Delete
  5. हमारा मन अगर दुःखी है तो सारी दुनिया के भीतर की खुशी खत्म हो गई है ऐसे लगता है। बात सच भी अपने अपनों के पास न हो तो दुःख होगा ही। और वह 'तुम' अपना प्रेमी आत्मीय हो तो आंखों का नूर तो गायब ही होगा। वहां सूरज, हवा, पानी, खाना, फूल, महक, चमक... कोई मायने नहीं रखता।
    डॉ.विजय शिंदे
    drvtshinde.blogspot.com

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद विजय शिंदे जी

      Delete
  6. एक अभाव सब पर अपनी छाया डाल देता है जब,सब फीका लगता है!

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद प्रतिभा जी

      Delete
  7. सुन्दर अभिव्यक्ति ||
    आभार आदरेया -

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद रविकर जी

      Delete
  8. अगर तुम नहीं हो तो सब कुछ है बस उस में हम नहीं हैं .......................

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद रमा सखी

      Delete
  9. आपका ये " तुम " तो बहुत बड़ा culprit है !

    क्रोध भी है उसके प्रति और ऐसे बैरी के लिए प्रेम भी !



    प्रस्तुति उत्तम ..... अभिव्यक्ति सुंदर .....


    ReplyDelete
    Replies
    1. सराहना के लिए हार्दिक धन्यवाद जी ...
      हमारा यह हृदय बहुत छोटा सा होता है इसमें एक ही चीज़ रह सकती है एक समय में , या तो प्रेम ,या क्रोध ही .... थोड़ी सी जिन्दगी मिली है तो क्रोध क्यूँ किया जाय , प्रेम ही क्यूँ नहीं ...न जाने कब यहाँ से रुखसत हो जाये

      Delete
  10. बढ़िया प्रस्तुति
    LATEST POST सुहाने सपने

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद कालिपद जी

      Delete
  11. हार्दिक धन्यवाद रमाकांत सिंह जी

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति..

    ReplyDelete
  13. सुन्दर रचना सखी

    ReplyDelete
  14. किसी की कमी के एहसास को बखूबी लिखा है

    ReplyDelete