Sunday, 15 December 2013

तुम बिन सब सूना -सूना ...


तुम बिन कौन सजन अब मेरा 
 जैसे  फूल सूरजमुखी सा 
मुरझाया अब मन मेरा भी 
घर -आँगन और मन का कोना 
तुम बिन सब सूना -सूना 

तुम बिन कौन सजन अब मेरा 
मद्धम हुआ जैसे चाँद गगन में 
अंधियारे में खोया 
अब मन मेरा भी 
घर -आँगन और मन का कोना 
तुम बिन सब सूना -सूना 


गए परदेस जब से तुम साजन 
भर आते नयन पल -पल 
पल -छिन तुम्हारी डगर निहारूं 
घर -आँगन और मन का कोना 
तुम बिन सब सूना -सूना 

एक बार तो मुड़ कर देखा होता 
जैसे कुम्हलाई सी लता 
 व्याकुल अब मन मेरा भी
घर -आँगन और मन का कोना 
तुम बिन सब सूना -सूना 

तुम बिन कौन सजन अब मेरा 
अब तो घर आ जाओ सजन 

11 comments:

  1. बहुत ही उम्दा व बेहतरीन रचना , आ० श्री उपासना जी धन्यवाद
    नया प्रकाशन -: घरेलू उपचार ( नुस्खे ) भाग - ६

    ReplyDelete
  2. bahut sundar prastuti......

    ReplyDelete
  3. सुन्दर रचना सखी ........:)

    ReplyDelete
  4. आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार १७/१२/१३को चर्चामंच पर राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी आपका वहाँ हार्दिक स्वागत है ------यहाँ भी आयें --वार्षिक रिपोर्ट (लघु कथा )
    Rajesh Kumari at HINDI KAVITAYEN ,AAPKE VICHAAR -

    ReplyDelete
  5. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना...

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर भावात्मक अभिव्यक्ति
    नई पोस्ट चंदा मामा
    नई पोस्ट विरोध

    ReplyDelete
  7. बेहद खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
  8. सुन्दर भावनाओं का संचार करती सुन्दर रचना

    ReplyDelete