Wednesday, 9 October 2013

माँ तुम हमेशा याद आती हो ....

माँ तुम हमेशा 
 याद आती हो 
जब कि मैं जानती हूँ ,
तुम मुझसे 
दूर नहीं हो मेरे आस पास ही 
तो रहती हो …

जब आईना देखती हूँ ,
 आईने में तुम 
मेरी चोटियाँ गूंथती नज़र 
आती हो ,
जब खाने बैठती हूँ माँ ,
तुम अपने
हाथों से खिलाती दिखाई देती हो …

जब कभी तवे पर 
रोटी की  जगह
उंगलियाँ सेक लेती हूँ ,
तो माँ तुम
झट से हाथ अपने हाथों में लेकर
फूंक मारती नज़र आती हो
और ये फूंक हाथों ही नहीं मेरे
दिल को भी मरहम लगा जाती है …

और माँ ,
जब उदास होती हूँ तो,
मुट्ठी में धीरे से मुस्कान थमा जाती हो,
पर माँ आज मुझे तुम्हारी बहुत याद
आ रही है , 
और मुझे पता है तुम ,
मेरे आस पास ही रहती हो ...



19 comments:

  1. माँ को सादर नमन-
    सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार आदरणीया-
    नवरात्रि / विजय दशमी की शुभकामनायें-
    (१५ दिन की छुट्टी पर हूँ-सादर )

    ReplyDelete
  2. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (11-10-2013) को " चिट़ठी मेरे नाम की (चर्चा -1395)" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है.
    नवरात्रि और विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर .
    नई पोस्ट : मंदारं शिखरं दृष्ट्वा
    नवरात्रि की शुभकामनाएँ .

    ReplyDelete
  4. माँ तो माँ होती है ..सादर नमन

    ReplyDelete
  5. माँ की याद में बहुत ही भावभीनी रचना...

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा - शुक्रवार - 11/10/2013 को माँ तुम हमेशा याद आती हो .... - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः33 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें, सादर .... Darshan jangra


    ReplyDelete
  7. आज की बुलेटिन जगजीत सिंह, सचिन तेंदुलकर और ब्लॉग बुलेटिन में आपकी इस पोस्ट को भी शामिल किया गया है। सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  8. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  9. माँ तुम बहुत याद आती हो ...........

    माँ को सादर प्रणाम

    ReplyDelete
  10. दिलसे निकले शब्द दिल को छू गया |
    लेटेस्ट पोस्ट नव दुर्गा

    ReplyDelete
  11. सुन्दर प्रस्तुति ....!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (12-10-2013) को "उठो नव निर्माण करो" (चर्चा मंचःअंक-1396) पर भी होगी!
    शारदेय नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  12. माँ की याद में भावनात्मक सुंदर रचना...
    नवरात्रि की शुभकामनाएँ ...!

    RECENT POST : अपनी राम कहानी में.

    ReplyDelete
  13. यादों से सजी सुंदर रचना |

    मेरी नई रचना :- मेरी चाहत

    ReplyDelete
  14. मां की याद ...मन भि‍गो देती है

    ReplyDelete
  15. माँ की याद में यादों से सजी सुंदर रचना |

    ReplyDelete