Monday, 28 October 2013

इन मुखोटों की सच्चाई तुम क्या जानो ...!

मैं अक्सर
बड़े शहरों के
बड़े -बड़े बाजारों में 
लोगों की चमक - दमक
वाली भीड़ में गुम सी
हो जाती हूँ ...
मैं अक्सर
ऐसे  बाज़ार में,
सामान कम लेने 
 लोगों को पढने ज्यादा
जाती हूँ

सोचती हूँ कि मेरे देश में
जैसे 
 कोई भी समस्या ही
नहीं है ,
ना भूख ना गरीबी
हर और खुशहाली

चलते -चलते
एक शक्स को पूछ  ही बैठी
 कितनी जगमगाहट है यहाँ 
खिलखिलाते चेहरे ,
ख़ुशी ही ख़ुशी
कोई भी दुःख ,गम ,परेशानी
 है ही नहीं यहाँ



वह  कडवी -कुनैन सी बोली बोला 
,कैसी चमक ,
कहाँ की दमक
इन चेहरों के
पीछे की सच्चाई
तुम क्या जानो

कार ,मकान, बिजनेस ,क़र्ज़ ,
तुम क्या जानो,
ना जाने
क्या -क्या भूलने आते है
यहाँ !
इन मुखोटों की
सच्चाई तुम क्या जानो ...!



10 comments:

  1. मुखोटे पहनकर चलता हैं आदमी /खुशियों की नुमाइश करता हैं आदमी / हर बार आंसू ख़ुशी के नही होते / जिन्दगी भर चेहरा बदलता हैं आदमी ................सही लिखा उपासना

    ReplyDelete
  2. सच्चाई मुखौटों के पीछे छिपी होती है ,,,

    RECENT POST -: तुलसी बिन सून लगे अंगना

    ReplyDelete
  3. आपकी यह पोस्ट आज के (२८ अक्टूबर , २०१३) ब्लॉग बुलेटिन - कौन निभाता किसका साथ - पर प्रस्तुत की जा रही है | बधाई

    ReplyDelete
  4. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार २९ /१० /१३ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका वहाँ हार्दिक स्वागत है ।

    ReplyDelete
  5. मुखौटे लगाकर छिपाते हैं लोग ...........

    ReplyDelete
  6. खूबशूरत रचना

    ReplyDelete
  7. यह रौशनी तो छलावा है
    सबके चेहरे अँधेरे में गुम हैं

    ReplyDelete
  8. हर एक के चेहरेपर मुखौट है,
    कोई किसी को नहीं पहचानता
    नई पोस्ट सपना और मैं (नायिका )

    ReplyDelete
  9. एक चेहरे पे कई चेहरे लगा लेते हैं लोग। एक चिपकी हुई मुस्कान।

    ReplyDelete
  10. I wanted to thank you for this good read!!
    I absolutely enjoyed every bit of it. I've got you book-marked to
    look at new stuff you post…

    My homepage; Shin Splints

    ReplyDelete