Sunday, 2 February 2014

मत आजमाइए कभी अपनों के अपने होने को

मत आजमाइए
कभी अपनों के अपने होने का
उनके  प्रेम को,
अगर भरम है यह
कि वो अपने है
तो रखिये उनका भरम ही
 अपने होने का

ना झेल सकेगा कोई
सच्चाई
उतरेंगे जब मुखोटे ,
उन मुखोटों के पीछे के चेहरे
कितने भयावह होंगे
यह कौन सह पायेगा !

मुखोटा लगा
चेहरा ही अपने होने का
भरम देता है अगर,
मत झांकिए
मुखोटों के पार

जवाब दीजिये मुस्कान का ,
मुस्कान से ही
मत नापिये
मुस्कानों के इंच , परिधियाँ
और कोण

मत तोलिये  उनके
प्रेम से भरे विषैले  शब्दों को
अपने हृदय की  तराज़ू से ,
सहते रहिये
अपने हृदय पर शूल से


यह  अपनेपन भरम ही
 रखता है जिन्दा
हर किसी को
बिखर कर टूट जाओगे
अगर ये भरम न हो
मत आज़माओ कभी
 अपनों के अपनेपन को