Wednesday, 12 February 2014

तुम्हारे ख़त भी मैंने सम्भाले रखे है ...

तुमने कहा
कि
तुम ने अब भी मेरे ख़त
सम्भाले हैं
छुपा कर रखे हैं उन को
एक अलमारी में
किसी अख़बार के नीचे छुपा कर
दबे अरमानो की तरह ...

तुमने कहा और मैं
बिन हवा
बिन पानी
मुरझाई सी लता ,
फिर से हरी हो गई...

जी लिए
बरसों पुराने पल
जो तुम्हारे साथ बिताये थे...

मैं तुम्हें नहीं बता सकी
कि
तुम्हारे ख़त भी
मैंने सम्भाले रखे है
एक पुराने सन्दूक जैसे गुल्लक में ...

गुल्लक में ही रखे
क्यूंकि वहाँ रखने से यादें
जमा होती जाती है
खर्च करते दर सा लगता है ...

जब भी मैं
मुरझाने लगती हूँ
पढ़ लेती हूँ
यादों के गुल्लक से कुछ यादें
और
फिर से हरी हो जाती हूँ
लहलहाती लता सी ...

क्या  तुम भी
मेरे ख़त
पढ़ते हो या
अब भी छिपा कर रखे हैं ...

या रखें है दबा कर
बिन हवा ,
बिन पानी के
अलमारी के किसी अख़बार में
जैसे कोई अरमान
मेरे और तुम्हारे ....







11 comments:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (07.02.2014) को " "फूलों के रंग से" ( चर्चा -1523 )" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है,धन्यबाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (14.02.2014) को " "फूलों के रंग से" ( चर्चा -1523 )" पर लिंक की गयी है,कृपया पधारे.वहाँ आपका स्वागत है,धन्यबाद।

      Delete
  2. बहुत सुन्दर जज़बातों को समेट कर एक रचना का आकार दिया आपने।
    हार्दिक बधाई

    ReplyDelete
  3. सुनहरे दिन और यादें सहेजी ही इसीलिए जाती हैं
    बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  4. खूबसूरत प्रेम मे पगी कविता

    ReplyDelete
  5. 'जैसे कोई अरमान, मेरे और तुम्हारे'.............. बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  6. आत्मीय अनुराग से ओतप्रोत .......बहुत खूबसूरत....

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रेम की अभिव्यक्ति !
    NEW POST बनो धरती का हमराज !

    ReplyDelete
  8. बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

    ReplyDelete