Thursday, 4 July 2013

याद में बसी चंपा के फूलों की महक

याद में बसी
चंपा के फूलों की  महक
अब भी महका जाती है
मुलाकात तुमसे
पहली -पहली ,
पहले -पहल जब
मिले थे चंपा की छाँव में
शाम के धुंधलके में ...

थोडा सकुचाये तुम
घबराई सी थी
मैं भी
निशब्द ताकना तुम्हारा
बोलती आँखों से
लब खामोश थे ...

सहसा चंपा के फूल
का गिरना  ,
फूल तो बहाना था
मानो मिला एक जरिया
तुम्हे मुझसे बतियाने का ...

हाथ में फूल
लबों पर मुस्कान
आँखों में प्रेम ,
याद है वो पल - घड़ी
मुझे अभी भी - आज भी
क्या तुम्हें भी है याद ...

याद मुझे तो है
वह तुम्हारी मुस्कान
फूल का मेरी तरफ बढ़ाना
जाने तुम फूल दे रहे थे
या मेरी तरफ हाथ बढा रहे थे ...

चंपा के फूल में बसा
तुम्हारा प्रेम
तुम्हारी छुअन
तुम्हारा मूक प्रेम -निवेदन
मुझे महका जाता है
आज भी -अभी भी
जब भी चंपा के पेड़ को
ताकती  हूँ ...

क्या तुम्हे भी याद है
वो महक ,
वह छुअन
या तुम्हें भी भुला दिया
चंपा तले वो महकी हुयी सी
पहली मुलाकात ...











11 comments:

  1. कितनी सुगंधित पहली मुलाकात.वह फूल अभी भी महकता होगा !

    ReplyDelete
  2. बहुत उम्दा अभिव्यक्ति , बहुत शुभकामनाये


    यहाँ भी पधारे

    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/01/yaadain-yad-aati-h.html

    ReplyDelete
  3. आपने लिखा....
    हमने पढ़ा....
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए शनिवार 06/07/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in
    पर लिंक की जाएगी.
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर महकती हुई रचना..

    ReplyDelete
  5. भई वाह !, बहुत सुंदर......

    ReplyDelete
  6. चंपई यादें ....आज भी महकती हैं ...
    बहुत सुंदर ....

    ReplyDelete
  7. अहा....
    मन चम्पई हुआ....महक उठीं यादें....

    अनु

    ReplyDelete
  8. वाह ||
    बहुत सुन्दर प्यारा अहसास लिए
    बेहद सुन्दर रचना....
    हृदयस्पर्शी..
    :-)

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर ... दिल खुश हो गया .. बधाई

    ReplyDelete