Friday, 24 February 2012

लक्ष्मण रेखा

उसने , अपनी कजरारी आँखों 
में काज़ल  की लकीरों से,एक 
 लक्ष्मण रेखा खींच रखी है .........  
.इस रेखा के पीछे  उसने ना जाने
 कितने अरमान ,गम को धकेल 
रखा है अपने भीतर .......
उभरते आंसूओं को अपनी आँखों की 
चमक बताती ,ना जाने कितने अंधेरों 
को धकेल रखा है अपने भीतर ......
उसने अपने लबों पर जो रंगीन रेखा है 
उसको भी  एक लक्ष्मण रेखा ही बना
 रखा है .............
इस रंगीन रेखा को ,एक मुस्कान से
 खिलखिलाहट में बदलने में ना जाने
 कितनी सिसकियाँ दबाई है उसने ..........