Wednesday, 1 January 2014

समय के कलेंडर पर जो तारीख ठहर जाती है ..

कुछ घंटे
कुछ  प्रहर
कुछ दिन
और
दिनों से मिल कर
 बने महीने

महीनों ने मिल कर
साल बनाया
कितने साल गुज़रे
कितने कलेण्डर बदले
ऐसे ही जीवन बीता जाता है

कलेण्डर बदलते हैं
तारीखें भी बदल जाती है
लेकिन जब कभी
समय के कलेंडर पर
कोई  तारीख ठहर जाती है
वह 'तारीख़ ' बन जाती है





14 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    गये साल को है प्रणाम!
    है नये साल का अभिनन्दन।।
    लाया हूँ स्वागत करने को
    थाली में कुछ अक्षत-चन्दन।।
    है नये साल का अभिनन्दन।।...
    --
    नवल वर्ष 2014 की हार्दिक शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete

  2. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 02-01-2014 को चर्चा मंच पर दिया गया है
    आभार 

    ReplyDelete
  3. आ० बहुत सुंदर , नव वर्ष की शुभकामनाओं सहित
    नया प्रकाशन -: जय हो विजय हो , नव वर्ष मंगलमय हो

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर. नव वर्ष की शुभकामनाएँ !!
    नई पोस्ट : नींद क्यों आती नहीं रात भर

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर प्रस्तुति...!
    नव वर्ष की बहुत बहुत शुभकामनाए
    RECENT POST -: नये साल का पहला दिन.

    ReplyDelete
  6. आपकी इस ब्लॉग-प्रस्तुति को हिंदी ब्लॉगजगत की सर्वश्रेष्ठ कड़ियाँ (1 जनवरी, 2014) में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,,सादर …. आभार।।

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    ReplyDelete
  7. खुबसूरत अभिवयक्ति.....

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। । नव वर्ष की हार्दिक बधाई।

    ReplyDelete
  9. सुन्दर प्रभावपूर्ण अभिव्यक्ति .. नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाये :)

    ReplyDelete
  10. बहुत सुंदर ..शुभकामनायें आपको भी ....

    ReplyDelete
  11. बहुत सुंदर----
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    नववर्ष की हार्दिक अनंत शुभकामनाऐं----

    ReplyDelete
  12. बहुत सुंदर----
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    नववर्ष की हार्दिक अनंत शुभकामनाऐं----

    ReplyDelete
  13. Bahut sunder . Nav varsh ki mangal kamnayen.

    ReplyDelete
  14. अनुपम भावना बेहतरीन एहसास

    ReplyDelete