Thursday, 14 November 2013

तुम्हारा नाम मुझे तुमसे भी अच्छा लगता है

तुमसे भी अच्छा 
तुम्हारा नाम लगता है 
मुझे 
जो रहता है 
मेरे आस -पास ही
महका -महका सा ...

 जब धीमे से गुनगुनाती हूँ 
तुम्हारा नाम
 हवा में घुल कर
 महका जाता है  हवा को ...

कभी -कभी  मुझे ,
खिड़की से झांकती 
रेशमी - मुलायम सी ,
सुबह के  सूरज की
 पहली किरण सा लगता है ...

सर्द रातों में 
गर्म लिहाफ सा 
तुम्हारा नाम मुझे तुमसे भी 
अच्छा लगता है ...

18 comments:

  1. sach mein ........... mujhe bhi achha lagta hain apna naam bhi uske sath juda apne unka naam bhi :)))

    ReplyDelete
  2. वाह खूबसूरत अहसास

    ReplyDelete
  3. जब धीमें से गुनगुनाती हूँ तेरा नाम
    हवा में घुलकर महका जाता है हवा को
    बहुत सुंदर …

    ReplyDelete
  4. बहुत ही प्यारी रचना...
    :-)

    ReplyDelete
  5. सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार आदरणीया

    ReplyDelete
  6. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शनिवार (16-11-2013) "जीवन नहीं मरा करता है" चर्चामंच : चर्चा अंक - 1431” पर होगी.
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है.
    सादर...!

    ReplyDelete
  7. बहोत खूब कही तुमसे अच्छा............ जबधीमेशे गुन गुनाती..... कभी कभी मुज़्ज़े .... सर्द रातोमे.... और अए सब अच्छ लगता है. ऐसी गुजराति भी कही रच्नाए बनाई गई है मगर आपने इसको कूदरत के फलजो के गथ्ट्बन्धोमे रचना की अए बहोत शुदर लग्ती है,,,
    जी बहोत खुब

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर रचना ..बधाई आप को

    ReplyDelete
  9. सुन्दर अभिव्यक्ति सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  10. सुन्दर एह्सासों की सुन्दर अभिव्यक्ति !
    नई पोस्ट मन्दिर या विकास ?
    नई पोस्ट लोकतंत्र -स्तम्भ

    ReplyDelete
  11. भावो का सुन्दर समायोजन......

    ReplyDelete
  12. सरल शब्दों में,मन के खूबसूरत भावों को,खूबसूरती से दर्शाया है.

    ReplyDelete
  13. सुन्दर सरल एवं सहज अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  14. खूबसूरत एहसास...

    ReplyDelete
  15. सुंदर अहसास , बधाई आपको उपासना जी ।

    ReplyDelete
  16. नाम का कमाल ही इतना कुछ कर दे तो वो आएं तो क्या हो जाए ...
    प्रेम में पगी कोमल रचना ...

    ReplyDelete
  17. पिछले २ सालों की तरह इस साल भी ब्लॉग बुलेटिन पर रश्मि प्रभा जी प्रस्तुत कर रही है अवलोकन २०१३ !!
    कई भागो में छपने वाली इस ख़ास बुलेटिन के अंतर्गत आपको सन २०१३ की कुछ चुनिन्दा पोस्टो को दोबारा पढने का मौका मिलेगा !
    ब्लॉग बुलेटिन के इस खास संस्करण के अंतर्गत आज की बुलेटिन प्रतिभाओं की कमी नहीं (22) मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete