Saturday, 28 September 2013

अकेली हूँ फिर भी अकेली कब होती हूँ ....

कभी -कभी
लगता है  मुझे
 नहीं है कोई भी मेरा
इस जहान में ...
है मेरे चहुँ ओर
बहुत सारे लोग ,
ऐसा लगता है मुझे
 फिर भी हूँ अकेली ...
अकेली हूँ फिर भी
अकेली कब होती हूँ
एक शोर सा ,
कोलाहल सा
मेरे मन के सन्नाटे को
रहता है चीरता सा ,
झन्झोड़ता सा ...
इस कोलाहल में भी
एक सन्नाटा सा छा जाता है
जब सुनती हूँ
एक खामोश सी पुकार ...
वह पुकार मुझे
फिर से  कर देती है
चुप और खामोश ....



22 comments:

  1. हर कोई भीड़ में भी अकेला है फिर भी अकेला नहीं पाता--यह जिंदगी का एक विरोधाभास है
    lataest post नई रौशनी !
    नई पोस्ट साधू या शैतान

    ReplyDelete
  2. गहन भाव लिये ... सच्‍ची अभिव्‍यक्ति

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर द्वंद ख़ुद से ख़ुद का
    सार्थक लेखनी , बधाई

    ReplyDelete
  4. सुन्दर प्रस्तुति आदरणीया-
    शुभकामनायें-

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर ,गहरी अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  6. नमस्कार आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (22-09-2013) के चर्चामंच - 1383 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    ReplyDelete
  7. भावपूर्ण रचना....

    ReplyDelete
  8. वाह बहुत ही सुन्दर भाव
    --------------------------------
    एक शोर सा कोलाहल सा

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर ........

    ReplyDelete
  10. मानसिक द्वंद्व को प्रस्तुत करती सुन्दर कविता
    आपकी इस उत्कृष्ट रचना की चर्चा कल रविवार, दिनांक 29 सितम्बर 2013, को ब्लॉग प्रसारण पर भी लिंक की गई है , कृपया पधारें , औरों को भी पढ़ें और सराहें,
    साभार सूचनार्थ

    ReplyDelete
  11. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  12. बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुती,धन्यबाद।

    ReplyDelete
  13. Is akelepan men yadon ka ek anokha shor hota hai.
    sunder prastuti.

    ReplyDelete
  14. Is akelepan men yadon ka ek anokha shor hota hai.
    sunder prastuti.

    ReplyDelete
  15. आपको यह बताते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी यह रचना आज सोमवारीय चर्चा(http://hindibloggerscaupala.blogspot.in/) में शामिल की गयी है, आभार।

    ReplyDelete
  16. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" गुरुवार, कल 10 दिसंबर 2015 को में शामिल किया गया है।
    http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप सादर आमत्रित है ......धन्यवाद !

    ReplyDelete