Sunday, 3 February 2013

वह तुम हो ...!


हर जगह ,हर तरफ 
बहुत लोग है ,
गहमागहमी है लोगों 
की हर तरफ
हर जगह ....
फिर भी मुझे ऐसा 
क्यूँ लगता है 
हर तरफ , हर जगह 
एक जगह तो 
रिक्त है ...
वह  तुम हो ...!
शायद तुम  ही हो ,
नहीं 'शायद' नहीं , 
सच में ही तुम 
ही हो ....
जिसकी कमी मुझे 
खलती रही है 
हर तरफ, हर जगह ....