Saturday, 17 March 2012

क्या लिखूं


किसी ने कहा 
 कुछ ऐसा लिखो
जिसे पढ़  चेतना जाग जाये
सोई हुई आवाम की 

सोच में पड़ गई मैं 
 आवाम  के लिए लिखूं  !
 जागी हुई आवाम के लिए !

चेता करती है जो 
सिर्फ बम के धमाकों से 
या किसी मसीहा के आव्हान पर ही !
और सो जाती है
फिर से किसी मसीहा के इंतज़ार में। 

 ऐसी सोयी हुई 
जनता को जगाने के 
 कविता की नहीं, 
अलख की जरुरत है !
किसी ने फिर टोका 
 चलो नारी के लिए ही लिखो !

लेकिन किस नारी के लिए
जो डूबी हुई है 
दुनियां की चकाचौंध में 
 क्या लिख कर जगाऊं 
 उसे जो 
अपने ही जाल में उलझती जाती है
 हर रोज़ !

ऐसी  सोयी हुई नारी को 
 झिंझोड़ कर - झखझोर कर ,
अपने हाथों से जगाना चाहती हूँ,
लिख कर नहीं !

अब क्या लिखूं ,
किसके लिए लिखूं !

6 comments:

  1. जय जय श्री राम !!!!!!अति सुन्दर .....

    ReplyDelete
  2. Replies
    1. बहुत शुक्रिया sakhi..........

      Delete
  3. fier jaag gye hum Upasna........... kintu shaayad shan bhar ke liye jaisa ke aap toh jaante ho :(
    behad achcha likha hai aapne.

    ReplyDelete