Thursday, 23 August 2012

********


बेशक हम उनका
मौन समझ लेते हैं ..
अब उन्हें क्या
 मालूम ....
हम भी तो उनको,
 सुनने को तरसते हैं ...