Thursday, 23 August 2012

********


बेशक हम उनका
मौन समझ लेते हैं ..
अब उन्हें क्या
 मालूम ....
हम भी तो उनको,
 सुनने को तरसते हैं ...

6 comments:

  1. बहुत खूब सखी .....

    ReplyDelete
  2. very good thoughts.....
    मेरे ब्लॉग

    जीवन विचार
    पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  3. VERY NICE LINES WITH DEEP EMOTIONS AND FEELINGS .

    ReplyDelete