Saturday, 28 July 2012

सुनो ...!!


सुनो ...!!
एक बार चले आओ ,
जरा एक बार सिर्फ एक बार
मुड़ के तो देखो ....
मैं अभी भी तुम्हारी राह ताक
रही हूँ ,
अपनी पलकें बिछाए .........
तुम्हारे बिन सूना-सूना है  सब,
जीने का अर्थ ही क्या रह जायेगा
तुम बिन ,मेरा ........
लेकिन ,प्रिय ...!!
ये तो मैंने कहा ही नहीं तुमसे
फिर क्यूँ तुम मुड़ के मेरी
बेचारगी की प्रतीक्षा कर रहे हो .....
जाओ तुम्हारा पथ ,
तुम्हारी प्रतीक्षा कर रहा है ,
अगर तुम सूरज को साथ ले कर
चलते हो ,
तो मेरे पास भी
एक छोटा सा दीपक है , जो
मुझे मेरी मंजिल तक
राह दिखलायेगा .............