Wednesday, 23 July 2014

शीशे पर निशान उभरे हैं या मेरे हृदय पर

हर रोज़
एक नन्हीं  सी चिड़िया
मेरी खिड़की के शीशे से
अपनी चोंच टकराती है ,
खट-खट की
खटखटाहट से चौंक जाती हूँ मैं ,

मानो कमरे के भीतर
आने का रास्ता ढूंढ  रही हो ,
उसकी रोज़ -रोज़ की
खट -खट से सोच में पड़ जाती हूँ  मैं ,

 वह क्यों चाहती है
भीतर आना
अपने आज़ाद परों से परवाज़
क्यों नहीं भरती
क्या उसे आज़ादी पसंद नहीं !

कोई भी तो नहीं उसका यहाँ
बेगाने लोग , बेगाने चेहरे
क्या मालूम
कहीं कोई बहेलिया ही हो भीतर !
जाल में फ़ांस ले ,
पर कतर दे !

वह हर रोज़ आकर
शीशे को खटखटाती है या
मोह-माया के द्वार को खटखटाती है
उसे नहीं मालूम !

मालूम तो मुझे भी नहीं कि
चोंच की खट -खट से
शीशे पर  निशान उभरे हैं
या मेरे हृदय पर
मैं नहीं चाहती उसका भीतर आना
पर चिड़िया की खटखटाहट और
मेरे हृदय की छटपटाहट अभी भी जारी है !




17 comments:

  1. निशाँ शीशे पर या दिल पे !
    चिड़िया को आने नहीं देने की छटपटाहट!
    हृदयस्पर्शी !

    ReplyDelete
  2. सुन्दर गंभीर और फड़फ़ड़ाहत से भरी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  5. छटपटाहट की खुबसूरत अभिव्यक्ति .... उम्दा रचना

    ReplyDelete
  6. प्रशंसनीय रचना - बधाई

    आग्रह है-- हमारे ब्लॉग पर भी पधारे
    शब्दों की मुस्कुराहट पर ...विषम परिस्थितियों में छाप छोड़ता लेखन

    ReplyDelete
  7. भावनायों का सम्वेग चिडिया के रूप मे कागज़ पर उतर आया1 बहुत सुन्दर्1

    ReplyDelete
  8. वाह, बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  9. Chatpatahat nhi jaati....bhaaawpurn..marmsparshi rachna..!!

    ReplyDelete
  10. चिडिया को आपके घर के अंदर एक आशियाने की तलाश है...,सुंदर कविता..
    इसे पढ कर मुझे भी अपनी एक छोटी सी कविता याद आ गयी..:)

    ReplyDelete