Saturday, 7 April 2012

मैं

अक्सर तुम्हारे खयालों
में गुम हो जाती हूँ तो ,
ये देह मिट्टी हो जाती है
आँखों को पर लग जाते है 
मन पंछी बन उड़ जाता है ......