Tuesday, 17 April 2012

एक गृहणी की कलम

एक गृहणी जब कलम
 उठाती है
 तो थोड़ा जलजला
 आता ही है  ,
कुछ भृकुटियां तन
जाती है ..
कलछी चलाने, 

हिसाब लिखने वाली उँगलियों में 
कलम कहाँ जचती है
भला किसी को ..
कुछ  भडभड़ाहट ,
कुछ खड़बडाहट ,
कुछ झनझनाहट से
अक्सर उसका ध्यान
बंटाया जाता है ..
 जब उसे ये आवाजें
भी मधुर लगने लगती है
तो 
छुपा दिया
जाता है ...
उसकी कलम कांच को
की किरचों में !
किरचें  
निकालते,
तलाशते हुए कलम को,
कुछ किरचे उसकी
उँगलियों में और 

कुछ किरचों की चुभन उसके
ह्रदय को लगती है.. 


ह्रदय से रिसते लहू को

 स्याही बना कर फिर से 
 लिखने लग जाती है ......