Sunday, 17 February 2019

अब तुम ही बतालओ

सुनो
आज सपने में देखा
जा रही हूँ
मैं
एक लम्बी सड़क पर
नीम अंधेरा है..

सड़क पर
एक हरा ,ताजा
टहनी से टूटा हुआ
बड़ा सा लट्ठ..

अंधेरे से डरने वाली को
सहारा है यह लट्ठ..

दूर - लम्बी सड़क पर
खड्डा नजर आता है
और
खड्डे में है पानी भरा..

खड़ी रहती हूँ
मैं
किन्कर्तव्यमूढ़ सी ..

लगा था मुझे
यह सड़क
जरिया होगी
सपने में ही सही,
तुमसे मिलने की..

अब तुम ही
बतलाओ जरा
सपने को बूझो जरा
तुम तक आऊँ तो कैसे भला !

3 comments:

  1. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन 136वां बलिदान दिवस - वासुदेव बलवन्त फड़के और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    ReplyDelete
  2. क्या आप बज़ट के अभाव में अपनी पुस्तक प्रकाशित नहीं करा पा रहे है? या आपको तकनीकि जानकारी नहीं है जिस कारण Do it Yourself (DIY) जैसी योजनाओं में भी आप पुस्तक प्रकाशित नहीं करा पा रहे है।

    हम जानते है लेखकों के साथ ऐसी कई समस्याएं होती है, इसलिए ऐसी कई समस्याओं को ध्यान में रखते हुए हम आपके लिए लाएं है स्पेशल स्वयं प्रकाशन योजना। इस योजना को इस प्रकार तैयार किया गया है कि लेखक पर आर्थिक बोझ न पड़े और साथ ही लेखक को उचित रॉयल्टी भी मिले।

    हमारा उद्देश्य : लेखक के बज़ट में उच्च क्वालिटी की पुस्तकों का प्रकाशन एवं उच्चतम रॉयल्टी प्रतिशत (Highest Royalty Percentage)।

    अधिक जानकारी के लिए विजिट करें - https://www.prachidigital.in/special-offers/

    हम नंबर 1 नहीं है, लेकिन लेखक को निराश नहीं होने देते है - प्राची डिजिटल पब्लिकेशन

    ReplyDelete