Friday, 21 December 2012

एक गृहिणी.......

एक गृहिणी
जब कलम उठाती है ...
लिखती है वह
खिलते फूलों पर
उगते सूरज पर
नन्ही किलकारियों पर
मासूम मुस्कानों पर ...


वह लिखती है
ममता की स्याही में
कलम को डुबो कर ....

 लेखनी में उसकी
उमड़ पड़ता है ढेर सारा
प्यार , दुलार और
बहुत सारा स्नेह ,
सारी  प्रकृति खिल उठती है ....

एक गृहिणी ,
एक नारी भी है
एक माँ भी है ......

क्या लिखे वह अपनी
 कलम से
दूसरी नारी की व्यथा
एक बेटी की दुर्दशा ...!

नहीं ,वह उठा ही नहीं
 पाती कलम
दर्द की स्याही से
' स्याह ' अक्षर नहीं लिख पाती ...